Thursday, August 26, 2010

इन्सान हो इंसान तुम[कविता]- रचना सागर


उसको क्या पता था

इंसान उसे भूल जाएगा

गुनाहों में पड़ के वो

क्या कर जायेगा

खाली हाथ आया था वो

गुनाहों संग जायेगा

लिया-दिया- सब किया

यही रह जाएगा

उसको क्या पता था...

हिंसा बस हिंसा है

तेरे और मेरे मन में

प्यार कहाँ है?

ढूढ़ो तो ढूढ़ो/जानो तुम

उसको क्या पता था...

मारो और काटो तुम

यही कर पाए हो

इंसान हो इंसान तुम

नहीं बन पाए हो

उसको क्या पता था...

नफरत है तेरे अन्दर नफरत फैलाएं हो

मज़हब के नाम पर घर लूट खांए हो

सोचो तो जरा सोचो तुम

क्या मुहम्मद बन पाएं हो?

उसके ही नाम पर लूट मचाए हो

इन्सान हो इंसान तुम नहीं बन पाए हो?

रचना सागर

29.06.2010

5:30 PM

Wednesday, April 30, 2008

अभी समय है...

आज उस वृक्ष को कटते देखा मैंने
जिसे रोपा था बूढी अम्मा ने
सींचा था अपने श्रम से, स्वेद से
पाला था बेटे की भांति
कल का नन्हा पादप
आज जब विशाल वृक्ष बना था
तो काट दिया अम्मा के अपने बेटे नें
मानो, एक भाई ने दुसरे भाई को काट दिया..

आज उस वृक्ष को कटते देखा मैंने
जिसे रोपा था बूढी अम्मा ने
वह वृक्ष उदास तो था
किंतु उसकी आँखों मे आँसू न थे
वो आज के मानव की कहानी कह रहे थे
उसे अफसोस नहीं कट जाने का/मिट जाने का
कि यही तो आज की दुनियाँ है हाँ
यहाँ माँ के दुध का कर्ज अदा नही होता
धरती माँ का हक़ अदा नही होता
जहाँ संग खेलते भाई-बहनों का संग नही होता
वहाँ एक अदना वृक्ष की क्या बिसात?
जाता हुआ वृक्ष धरती में बिबाईया बो गया
दरारे अपनी लिपि में
दे रही थी चेतावनी मानवता को
अभी समय है संभल जाओ..

- रचना सागर
27.12.2007

Monday, September 03, 2007

मैने देखा था।



मैंने देखा था
आपको रोते हुए
आँखें नम न थी आपकी
सिसकियाँ भी नहीं
फिर भी जैसे टूटा था कुछ
दिल था क्या?
मैंने देखा था आपको रोते हुए
-रचना सागर
२७.०८.२००७

Wednesday, August 08, 2007

उनके बिना



जीने की चाहत किसे है
यूं ही जी ली ज़िन्दगी
खुशी मिली, कह दिया हाय
गम आय, उन्हें भी हाय
उनके बिना जीना क्या
मरना भी बेकार लगे
भूख, प्यास, धूप, छाँव
सब एक समान लगे

- रचना सागर
29.07.2007

Tuesday, July 24, 2007

क्षणिका - अहसास से


कभी तेरे आने के अहसास से
मन प्रफुलित हो उठता है
तो कभी उसके आने के अहसास से
दिल खिल उठता है
ऐसे मे नींद तो आती नहीं
पर सच मे
तेरी याद बहुत आती है।


- रचना सागर

Thursday, July 12, 2007

उडान..

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

अंधेरे रात में चमकते जुगनू को देखा
ऐसा लगा मानो कवि की
सुन्दर कल्पना हो
छोटी सी परी की
सुन्दर सी उडान हो
मेरी बेटी की प्यारी मुस्कान
सी लगी फिर वो रात मुझे

- रचना सागर

Monday, July 09, 2007

मंज़िल अभी बाकी है


ज़िन्दगी एक सफर है
खुश हो रहे हैं हम
दो वक्त की रोटी पा कर
और अपने ठहराव को मंज़िल समझ बैठे
हम तुम ने सफर को ही मंज़िल कह लिया है

जब आती है किसी की मौत तो कहते हैं
मंज़िल आ गयी
ज़िन्दगी महज झांकी है
हमारी मंज़िल अभी बाकी है...

- रचना सागर
07.07.07